शिलाई की जनता ने पहले तोड़ा हर्ष का घमंड अब तोमर की बारी

SIRMOUR (सिरमौर) चुनाव राजनीति शिलाई हिमाचल

सिरमौर न्यूज़ -शिलाई

सिरमौर के शिलाई विधानसभा क्षेत्र में इस बार जनता मुख्यमंत्री के मित्र बलदेव तोमर को जड़ से उखाड़ फेंकने की तैयारी में जुटी है। दिन प्रतिदिन कांग्रेस के साथ आम जनता का हुजूम जुड़ता जा रहा है जिसके बाद से शिलाई में भाजपा के पैरों तले जमीन खिसक गयी है। भाजपा प्रत्याशी बलदेव तोमर के व्यवहार में आये परिवर्तन को इसका मुख्य कारण माना जा रहा है।
आपको बताते चलें की इससे पहले शिलाई की जनता ने कोंग्रेसी नेता हर्षवर्धन चौहान को भी झटका दिया था जब उनके अंदर सत्ता का गुरुर चरम पर था।
वर्ष 2012 के चुनाव में जनता ने हर्षवर्धन चौहान के प्रतिद्वंदी बलदेव तोमर को विधानसभा भेजा था , इस दौरान विधानसभा क्षेत्र शिलाई में 82.6 % मतदान हुआ था और 1,918 मतों से हर्षवर्धन चौहान को जनता ने पछाड़ दिया था, जिसका नतीजा यह रहा की वर्ष 2017 के चुनाव तक हर्षवर्धन के व्यवहार में परिवर्तन आया। क्षेत्र की जनता बताती है की पहले हर्ष कुछ नेताओं से ही घिरे रहते थे जबकि आम लोगो का उन तक पहुँच पाना मुश्किल होता था , जो नेता किसी से हाथ मिलाने को राजी नहीं होता था जनता ने उसने हाथ खड़े करवा दिए थे।
myneta.info के अनुसार उस समय नये नवेले विधायक बलदेव तोमर के पास 56,13,072/- के एसेट्स थे और 10,00,000/- की देनदारियां थी। लेकिन गत सवा पांच वर्षो से बलदेव तोमर के सिर पर मुख्यमंत्री के मित्र होने का जूनून सवार हो गया , क्षेत्र की जनता उन्हें उप मुख्यमंत्री के नाम से भी पुकारने लगी। पद और मुख्यमंत्री के मित्र होने का घमंड क्षेत्र ही नहीं बल्कि प्रदेश की जनता ने भी देखा। जिसके बाद से शिलाई विधानसभा क्षेत्र की जनता का बलदेव तोमर से मोह भंग होने लग गया। सूत्र बताते है की आज के समय में बलदेव तोमर के पास अथाह सम्पति है , हालाँकि उन्होंने क्षेत्र में सार्वजानिक काम करवाने के लिए घोषणाएं भी की कुछ कार्य शुरू भी हुए लेकिन इस बार भी जनता के दिलों को पूरी तरह से बलदेव तोमर नहीं जीत पाए है।
शिलाई की जनता ने शिलाई में विक्रमादित्य सिंह के कार्यक्रम के दौरान संकेत दे दिए थे की इस बार शिलाई की जनता क्या चाहती है और हाल ही में जब अपने विधानसभा क्षेत्र से अमित शाह के कार्यक्रम में भी संतोषजनक भीड़ बलदेव तोमर नहीं जुटा पाए थे उस समय जनता का इशारा भी सबने समझ लिया होगा। अमित शाह के कार्यक्रम ने पांवटा साहिब सहित रेणुका विधानसभा क्षेत्र की जनता ने ही कार्यक्रम के दौरान कुर्सियां भरी थी।
हाल ही के दिनों में सेंकडो परिवार शिलाई भाजपा से कांग्रेस में शामिल हो चुके है , जिससे शिलाई भाजपा कमजोर पड़ रही है। इस बार यदि बलदेव तोमर को जनता ने हरा दिया तो उनका राजनितिक भविष्य भी ख़त्म होने के कगार पर है।