जय सिंह ठाकुर एंड संस की बल्दवा लाइम स्टोन खान और एसीसी की गगल लाइम स्टोन खान को चुना सर्वश्रेष्ठ खान

Local News SIRMOUR (सिरमौर) पॉवटा साहिब हिमाचल

सिरमौर न्यूज़

भारतीय खान ब्यूरो देहरादून के तत्वाधान में मनाए गए 30वें खान पर्यावरण एवं खनिज संरक्षण सप्ताह का पुरस्कार वितरण समारोह शुक्रवार को देहरादून में मनाया गया। जिसके मुख्य अतिथि भारत सरकार खान मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव व भारतीय खान ब्यूरो के महानियंत्रक संजय लोहिया थे और विशिष्ट अतिथि के रूप में आईबीएम उत्तरी क्षेत्र के खान नियंत्रक रजनीश पुरोहित थे । इस अवसर क्षेत्रीय खान नियंत्रक मनीष कुमार मेहंदीरत्ता, ACC प्लान्ट हेड अमिताभ सिंह, आयोजक समिति के सचिव एसीसी सीमेंट के पंकज नयन रहे.
मुख्य अतिथि भारत सरकार खान मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव व भारतीय खान ब्यूरो के महानियंत्रक संजय लोहिया ने अपने संबोधन में कहा कि देहरादून रीजन बहुत छोटा है लेकिन बहुत महत्वपूर्ण रीजन भी है. पहाड़ी क्षेत्र में खनन करना एक कठिन और संवेदनशील कार्य हैं.कहा की संसाधन और मूलभूत सुविधाओं की कमी होने कारण पहाड़ी क्षेत्र में माइनिंग करना एक चुनौतीपूर्ण काम है. कहा हम बधाई देते हैं कि आप लोंगों ने यह पहल की है कहा कि हिमालय क्षेत्र में पर्यावरण को बचाए रखना भी हमारी जिम्मेदारी है और इसे प्राथमिकता के आधार पर लेना होगा. उन्होंने कहा कि अगर समय पर आप पर्यावरण के प्रति सचेत नहीं हुए तो इसकी बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी. उन्होंने कहा कि पर्यावरण और खनिज सरंक्षण सप्ताह के दौरान एक दुसरे के बारे में जानने का अवसर मिलता है अच्छे काम देखने से लोंगों को प्रेरणा मिलती है. उन्होंने कहा पिछले ढेढ़ वर्षों में खान नियम कानून में बहुत महत्वपूर्ण बदलाव किये गए हैं, कहा की एक पारदर्शिता लाने का प्रयास किया गया है, नियम बदलने से शुरू में थोड़ी कठिनाई हो सकती है लेकिन बाद में सुलभ हो जायेगा. कहा की सरकार ने 2015 में माइंस एक्ट में बड़ा बदलाव किया है जिसके अंतर्गत अब नई खाने नीलामी के माध्यम से आबंटित की जाएगी इस विषय पर पुरे देश में व्यापक व्यवस्था शुरू कर दी गई है जो एक सरल प्रक्रिया होगी जिससे अधिक से अधिक खाने नीलम की जा सकें. उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने नीलामी प्रक्रिया के नियम बना दिए हैं लेकिन राज्य सरकारें को नीलामी करनी है उनकी तरफ से अभी थोड़ी कमी रह गई है. अभी एक वर्ष में 182 खानों की नीलामी गई है 66 और खानों की प्रक्रिया पूरी हो गई है. उन्होंने कहा नई खानों के लिए एक्स्प्लोरेशन की प्रक्रिया सरल की गई है . उन्होंने कहा की पहले सरकारी विभाग ही एक्स्प्लोरेशन एजेंसी होती थी लेकिन अब सरकार ने प्राइवेट एक्स्प्लोरेशन एजेंसी को भी नोटिफाई करने की व्यवस्था की गई है. उन्होंने कहा कि अगर पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए कार्य करेंगें तो सभी विभाग आप को सहयोग करेंगें नहीं तो आने वाले दिनों में खनन कार्य करना कठिन हो जायेगा .

इससे पहले 30 वां खान पर्यावरण एवं खनिज सरंक्षण सप्ताह 23 मार्च से 29 मार्च तक मनाया गया था। जिस दौरान देहरादून क्षेत्र के अंतर्गत आने छः मशीनीकृत ओर 17 अर्ध मशीनीकृत खानों का निरीक्षण दो विशेषज्ञों की टीम ने किया था। टीम में वरिष्ठ खान अभियंता, भूवैज्ञानिक सहित वरिष्ठ खान प्रबन्धक मौजूद थे। निरिंक्षण के दौरान 10 अलग अलग वर्ग में अंक दिए गए थे। निरीक्षण के दौरान उच्च मूल्यांकन समिति द्वारा अंक दिए गए, जिसके उपरांत ही सभी खानों को पुरस्कृत किया गया।
मशीनीकृत वर्ग में एसीसी सीमेंट की गगल लाइम स्टोन खान को सर्वश्रेष्ठ खान से पुरस्कृत किया गया। मशीनीकृत वर्ग में दूसरे स्थान पर अम्बुजा सीमेंट की कश्लोग खान ओर तृतीय स्थान पर अल्मोड़ा मेग्नेसाइट की झिरोली मेग्नेसाइट खान को चुना गया।जबकि अर्धमशिनीकृत वर्ग में जय सिंह ठाकुर एंड संस की बल्दवा लाइम स्टोन खान को सर्वश्रेष्ठ खान का पुरस्कार दिया गया। इसी वर्ग में दूसरे स्थान पर कपिल एन्ड गौरव आंनद की हीयोना लाइम स्टोन माइन और तीसरे स्थान पर वीके वालिया की भूतमड़ी लाइम स्टोन माइन को चुना गया