कृषि कानून निरस्त, पांवटा साहिब में जश्न

Local News पॉवटा साहिब

फिलहाल बॉर्डर से नहीं हटेंगे आंदोलनरत किसान, बोले नॉटी

सिरमौर न्यूज़ / पांवटा साहिब

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तीनों कृषि कानून वापस लेने की घोषणा से हिमाचल में कृषि आंदोलन का केंद्र रहे पहुंचा पांवटा साहिब में खुशी का माहौल रहा। संयुक्त किसान मोर्चा ने मिठाईयां बांटकर खुशी का इजहार किया। इस अवसर पर भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष अनिंदर सिंह नॉटी ने प्रधानमंत्री के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि सरकार एमएसपी सहित किसानों की मांगों पर भी आश्वासन दे और संसद में कृषि कानून वापिस करवाए तो बॉर्डर से किसानों की घर वापसी होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा विवादित कृषि कानून निरस्त करने की घोषणा से हिमाचल के किसानों ने भी खुशी जाहिर की। प्रदेश में किसान आंदोलन का केंद्र रहे पांवटा साहिब में किसान आंदोलन से जुड़े किसानों ने मिठाई बांटकर खुशी का इजहार किया। यहां भारतीय किसान यूनियन और संयुक्त किसान मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने रैली भी निकाली। इस अवसर पर भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष अनिंदर सिंह, नॉटी ने कहा कि प्रकाश पर्व के अवसर पर सरकार का अहंकार और अंधकार समाप्त हुआ है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को किसानों का दर्द और आंदोलन की ताकत समझ आई और उन्होंने तीनों कृषि कानून निरस्त करने की घोषणा की प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि अभी और भी बहुत कुछ होना बाकी है। संयुक्त किसान मोर्चा के सभी मांगों पर सरकार हामी भरती है, तभी दिल्ली बॉर्डर से आंदोलनरत किसानों की वापसी संभव होगी। पत्रकार वार्ता में प्रदेश अध्यक्ष ने भाजपा सरकार की नियत पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि सरकार की नियत साफ होती है तो समय रहते कानून वापिस लिए होते। नॉटी ने कहा कि आंदोलनरत 700 किसानों के खून के छींटे भाजपा का लगे हैं। सरकार को इन्हें भी धोना होगा। उन्होंने कहा कि अभी कृषि कानून वापस लेने की घोषणा हुई है। अभी मांगों पर मंथन होना है। उन्होंने कहा कि सरकार संशोधित बिजली बिल निरस्त कर और एमएसपी पर सरकार संसद में कानून पास करें। किसानों की अन्य मांगों पर भी हामी भरी तभी दिल्ली की सीमाओं पर डटे किसानों के घर वापसी होगी।

Leave a Reply