अवैध खनन को लेकर ऊर्जा मंत्री सुखराम चौधरी के सामने आपस में उलझे दो गुट

हिमाचल

बिलासपुर जिला के नयनादेवी क्षेत्र में जनमंच का कार्यक्रम के दौरान दो गुटों में गहमा गजमी देखने को मिली। यहां लोग ऊर्जा मंत्री सुखराम चौधरी, स्थानीय विधायक और जिला प्रशासन के सामने ही आपस उलझ गए। विवाद अली खड्ड में हो रहे अवैध खनन को लेकर हुआ। हालांकि वहां तैनात सुरक्षाबलों ने मामले को और अधिक बिगड़ने से पहले संभाल लिया था।

बिलासपुर जिले के जुखाला स्कूल में रविवार को जनमत आयोजित किया गया। जनमंच की अध्यक्षता प्रदेश के उर्जा मंत्री सुखराम चौधरी कर रहे थे। जनमंच में अन्य जन समस्याओं के साथ बिलासपुर के साथ लगती अली खड्ड पर हो रहे अवैध खनन की शिकायत भी आई। अवैध खनन की शिकायत पर वहां आसपास खड़े लोग नाराज हो गए। गुस्साए लोगों का कहना था कि अगर वह घर के काम के लिए खड्ड से पत्थर नहीं लेंगे तो कहां से लेंगे। इस बात को लेकर दो गुटों में मंत्री के सामने की तनातनी हो गई।
हालांकि मंच पर ऊर्जा मंत्री सुखराम चौधरी के साथ डीसी बिलासपुर पंकज राय, विधायक राम लाल ठाकुर सहित प्रदेश आपदा प्रबंधन बोर्ड के उपाध्यक्ष रणधीर शर्मा सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे, लेकिन लोगों ने किसी की परवाह नहीं की और एक दूसरे से भिड़ना शुरू कर दिया। पंडाल के भीतर तनाव बढ़ने लगा तो मंत्री सहित प्रशासन की सिक्याेरिटी ने मोर्चा संभाला। सुरक्षाकर्मियों के काफी मशक्कत के दोनों गुटों को दूर दूर किया जा सका। लोगों की इस बहस को रोकने के लिए डीसी बिलासपुर पंकज राय को मंच से उतरकर लोगों के बीच पहुंचना पड़ा, तब कहीं जाकर मामला शांत हो पाया।
जनमंच में उर्जा मंत्री सुखराम चौधरी के सामने अनेकों लोगों ने अपनी समस्याऐं रखी। कई समस्याओं का मौके पर ही समाधान किया गया। अवैध खनन के मामले में मंत्री सुखराम चौधरी ने कहा कि इस मामले में प्रशासन को जल्द ही निशानदेही के आदेश दिए हैं। अगर व्यक्ति की अपनी मलकीयत होगी तो वह उस सामान को इस्तेमाल कर सकता है, लेकिन अगर ऐसा नहीं हुआ तो मामले की छानबीन कर कार्रवाई अम्ल में लाई जाएगी।