आर्थिक रूप से पिछड़े विद्यार्थियों को दाखिले में मिलेगा 10 फीसदी आरक्षण हिमाचल सरकार ने प्रदेश में

Local News पॉवटा साहिब हिमाचल

सिरमौर न्यूज

आर्थिक रूप से पिछड़े विद्यार्थियों को दाखिले में मिलेगा 10 फीसदी आरक्षणहिमाचल सरकार ने प्रदेश में आर्थिक रूप से पिछड़े श्रेणी के विद्यार्थियों के दाखले में आरक्षण की व्यवस्था की है। ऐसे विद्यार्थियों को शिक्षण संस्थानों में दाखिले में 10 फीसद आरक्षण मिलेगा। इन विद्यार्थियों को एससी, एसटी व ओबीसी विद्यार्थियों की तर्ज पर दाखिले में आरक्षण मिलेगा। शिक्षण संस्थानों में दाखिले के लिए खेल और सांस्कृतिक कोटे को भी बहाल कर दिया गया है। शिक्षा सचिव राजीव शर्मा की ओर से इस संबंध में विश्वविद्यालयों के कुल सचिवों को पत्र लिखकर नियम लागू करने का निर्देश जारी कर दिया है। पत्र में कहा गया है कि दाखिले के लिए नियमों में किसी भी तरह की अनियमितता नहीं बरती जानी चाहिए। इन दिनों कालेजों में दाखिले चल रहे हैं। यह निर्णय कालेजों में भी लागू होगा। पिछले माह उच्चतर शिक्षा विभाग के निदेशक डा. अमरजीत शर्मा की अध्यक्षता में निदेशालय में बैठक आयोजित बैठक में कोटे को बहाल करने का निर्णय लिया गया था। फैसले के बाद अब विभाग ने इसकी अधिसूचना जारी कर दी है। शिक्षा विभाग के इस निर्णय से आर्थिक रूप से पिछड़े विद्यार्थियों सहित खेल और सांस्कृतिक क्षेत्र से आने वाले विद्यार्थियों को दाखिले में इसका फायदा मिलेगा। सरकार ने प्रवेश के लिए लागू किए 200 प्वाइंट रोस्टर जारी किया है जिसमे आर्थिक रूप से कमजोर और दिव्यांग विद्यार्थियों के लिए 10 और पांच फीसद आरक्षण देने का आदेश जारी किया है। जिन कालेजों और शिक्षण संस्थानों में सीमित सीटें हैं और मेरिट आधार पर प्रवेश दिया जाता है, उनमें खेल व सांस्कृतिक गतिविधि में अव्वल रहने वाले विद्यार्थियों को आरक्षण बंद कर दिया था। इससे पहले इनका कोटा पांच-पांच फीसद था