ऊर्जा मंत्री और प्रशासन भुला चुनावी कोरोना गाइडलाइन

Local News पॉवटा साहिब भाजपा राजनीति स्वास्थ्य हिमाचल

सिरमौर न्यूज़/ पांवटा साहिब

देश में कोरोना की दूसरी स्ट्रेन के खतरे के बीच चुनावी माहौल में कोरोना प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ाई जा रही है। पांवटा साहिब में कोरोना खतरे की आहट साफ देखी जा रही है। चुनावी कार्यक्रमों की भीड़ कोरोना वायरस की कैरियर ना बन जाए प्रशासन सहित सरकार के नुमाइंदे भी इस तरफ ध्यान नहीं दे रहे हैं।

नगर निकाय चुनाव में नामांकन के दूसरे दिन एसडीएम ऑफिस के बाहर बिना मास्क के सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाती भीड़ जमा रही। नामांकन के दौरान ढोल नगाड़ों का भी उपयोग हुआ। यही नहीं ऊर्जा मंत्री सुखराम चौधरी भी भीड़ का हिस्सा बने। इससे पहले ऊर्जा मंत्री चौधरी सुखराम के द्वारा पुरुवाला सरकारी स्कूल के प्रांगण में चुनावी सभा का आयोजन किया गया था। सभा में बिना मास्क के 50 से अधिक लोग पहुंचे। सोशल डिस्टेंस की भी धज्जियां उड़ाई गई। कमोबेश कुछ ऐसा ही नजारा स्थानीय निर्वाचन अधिकारी व एसडीएम कार्यालय के बाहर भी दिन भर देखने को मिला। निःसन्देह कोरोना स्ट्रेन की दूसरी वेब के खतरे के बीच राजनीतिक और प्रशासनिक चुप्पी आम शायरियों का जीवन खतरे में डाल रही है। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश में सत्तासीन है और ऐसे में सत्तासीन पार्टी की जिम्मेदारियां भी अधिक बढ़ जाती हैं। लेकिन सुखराम चौधरी की जनसभाएं और भाजपा प्रत्याशियों के नामांकन में जुटी भीड़ सरकार और पार्टी की कथनी और करनी में अंतर को दिखा रही है।
बताते चलें कि ऊर्जा मंत्री सुखराम चौधरी स्वयं कोरोना संक्रमण से गुजर चुके हैं। उस समय भी इनकी राजनीतिक रैलियों में काफी लोगों को कोरोना संक्रमण हुआ था। विपक्ष कांग्रेस ने ऊर्जा मंत्री को कोरोना कैरियर की भी संज्ञा दी थी। अब चुनावी माहौल में सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनने के नियमों के साथ सभी प्रकार के नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही है। वोटों के लालच में आमजन के जीवन को खतरे में डाला जा रहा है। ना राजनीतिक जिम्मेदार मुंह खोल रहे हैं ना प्रशासन कुछ एक्शन ले रहा है लिहाजा लोगों को स्वयं ही एहतियात बरतने की जरूरत है। लोग ऐसे गैर जिम्मेदार राजनीतिज्ञों के कार्यक्रमों से दूरी बनाएं। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और मास्क पहनकर ही निकलें। ताकि अपने परिवार सहित समाज को भी सुरक्षित रखा जा सके।