एचपीयू ने जारी की पीजी परीक्षाओं के गाइड लाइन

शिक्षा हिमाचल

सिरमौर न्यूज़ / शिमला

पीजी परीक्षाओं के लिए एचपीयू ने गाइडलाइन जारी की है। परीक्षाएं सितंबर माह में शुरू होनी है।बाहरी राज्यों से आने वाले छात्रों को कोएना की एंटीजन रैपिड टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट लानी होगी। इसके साथ ही होस्टल में भी रहने की छूट प्रदेश विश्वविद्यालय द्वारा प्रदान की जाएगी।
इस बार पीजी की फाइनल परीक्षा में लगभग 40 हजार छात्रों की रजिस्ट्रेशन हुई है। परीक्षाओं के दौरान ये छात्र विश्वविद्यालय के होस्टल में रह सकेंगे। इसके लिए विश्वविद्यालय ने कुछ नियम तय किए हैं, जिसके तहत छात्र अगर पहले ही विश्वविद्यालय होस्टल में रहता है, तो उसे होस्टल में रहने की सुविधा दी जाएगी। इसके लिए छात्र को अपनी कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट साथ लेकर आनी होगी। यह भी तय किया गया है कि हिमाचल के दूरदराज के क्षेत्रों से आने वाले छात्रों को भी होस्टल में रहने की अनुमति देगा। इन छात्रों को अपने साथ एक डिस्टेंस सर्टिफिकेट लाना होगा, जिसमें यह शामिल होना चाहिए कि विश्वविद्यालय की ओर से पीजी परीक्षाओं के लिए बनाया गया निकटतम परीक्षा केंद्र 50 किलोमीटर से अधिक दूरी पर स्थित है।
यह भी तय किया गया है कि यह डिस्टेंस सर्टिफिकेट कार्यकारी मजिस्ट्रेट की ओर जारी या प्रतिवाद किया जाना चाहिए। तहसीलदार के पद से नीचे यह सर्टिफिकेट मान्य नहीं होगा। इसके अलावा एक बड़ी राहत एचपीयू की ओर से छात्रों को यह भी दी गई है कि यदि कोई छात्र कोविड-19 के कारण कभी भी विश्वविद्यालय की ओर से आयोजित परीक्षा में उपस्थित नहीं हो पाता है, तो ऐसे पाठ्यक्रम के लिए विशेष परीक्षाओं में उपस्थित होने का अवसर दिया जाएगा।
विश्वविद्यालय ने सभी परीक्षा केंद्रो को एसओपी का पालन करने के निर्देश जारी किए हैं। परीक्षा केंद्र के अंदर जाने से पहले छात्रों की थर्मल स्कैनिंग होगी, वहीं तापमान सामान्य होने पर ही एंट्री मिलेगी। विश्वविद्यालय की ओर से कहा गया है कि जो छात्र संक्रमण की वजह से परीक्षा नहीं दे पाएंगे, उनके लिए बाद में अलग से एग्जाम को लेकर डेट निकाली जाएगी।