पत्रकारों के खिलाफ फर्जी मुकदमे दर्ज करने के खिलाफ एनजेयू ने की आवाज बुलंद
एनयूजे के राष्ट्रीय अधिवेशन में उठा मामला

Local News हिमाचल

सिरमौर न्यूज़/शिमला

पत्रकारों की चिर लंबित मांगों को लेकर नेशनल यूनियन ऑफ जर्नालिस्टस ( इंडिया) की ऑनलाइन राष्ट्रीय बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में मुख्य रूप से पत्रकारों की लंबे समय से लंबित पड़ी मांगों पर विचार विमर्श किया गया। बैठक में पत्रकारों पर फर्जी मामले दर्ज करने पर कड़ा रोष जताया गया।

ऑनलाइन बैठक की अध्यक्षता दिल्ली के जंतर मंतर से राष्ट्रीय अध्यक्ष रास बिहारी ने की। ऑनलाइन बैठक में पूरे हिंदुस्तान में मीडीया को आ रही विभिन्न कठिनाइयों तथा समस्याओं पर विचार विमर्श किया गया। ऑनलाइन बैठक में हिमाचल की ओर से सोलन, शिमला, ऊना, बिलासपुर, चंबा, हमीरपुर, कांगड़ा, कुल्लू, किन्नौर, मंडी, शिमला से पत्रकार जुड़े। बददी, शिमला, ऊना, डलहौजी के पत्रकारों ने मांगों को लेकर अपने अपने प्रेस क्लबों के आगे धरना व प्रदर्शन भी किया। सर्वप्रथम समस्त पत्रकारों ने कोरोना से मृत्यु से शिकार हुए ऊना के पत्रकार रविंद्र कुमार के निधन पर शोक प्रकट किया व दो मिनट का मौन रखा। वरिष्ठ पत्रकार सुरेंद्र अत्री ने कहा कि अगर एनयूजे हिमाचल इकाई के कहने पर जयराम सरकार ने कोविड के दोरान पत्रकारों को कोरोना वारियर्स घोषित किया होता तो आज मृतक के परिवार को पचास लाख की आर्थिक सहायता मिल जानी थी। उन्होंने राज्य सरकार से सवाल किया कि आखिर वह हिमाचल के कितने पत्रकारों की मौत चाहती हैं जिससे प्रदेश सरकार उनको कोरोना योद्धा दर्जा दे सके। प्रदेश महासचिव एचपीयूजे किशोर ठाकुर ने कहा कि सरकार ने सभी विभागों को कोरोना वारियर्स घोषित किया लेकिन फील्ड में जाकर अपनी जान पर खेलकर लोगों को सूचनाएं पहुंचाने वाले मीडिया को दरकिनार कर दिया। प्रदेशाध्यक्ष रणेश राणा ने कहा कि आज राष्ट्रीय अध्यक्ष रास बिहारी के नेतृत्व में जो राष्ट्रीय सम्मेलन हुआ है उसमें हिमाचल से भी दर्जनों पत्रकार जुड़े और हमने मीडिया जगत से जुड़े कई मुद्दे उठाए और पत्रकारों पर बनाए गए फर्जी मुकदमे तुरंत रदद किए जाए। शिमला में राष्ट्रीय सचिव सीमा शर्मा, प्रीती, ऊना में राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य जोगिंद्र देव आर्य, डलहौजी में विशाल आनंद, सरकाघाट में रितेश चौहान, सोलन में रोहित गोयल व हेमंत शर्मा, परवाणु में सुमित शर्मा, नाहन में राजन पुंडीर, कांगडा में विजय ठाकुर, देहरा में गुलशन धनोआ, बिलासपुर में विक्रम ठाकुर, मंडी में अश्विनी सैणी, कुल्लू में देवंद्र ठाकुर, हमीरपुर में पंकज भारतीय, दिनेश कंवर व रणवीर ठाकुर, ऊना में जेडी आर्य व पंकज कतना, भारत भूषण, किन्नौर में समर नेगी, बददी में किशोर ठाकुर व सुरेंद्र अत्री के नेतृत्व में धरने प्रदर्शन आयोजित किए गए। पत्रकारों के मुख्य मुददों में पत्रकारों को नेशनल रजिस्टर बनाना, कोरोना योद्धा घोषित करना, जर्नालिस्ट प्रोटेक्ट एक्ट बनाना, छोटे व सूक्ष्म समाचार पत्रों को राहत पैकेज देना शामिल हैं। बददी में हुए प्रदर्शन में सुरेंद्र अत्री, किशोर ठाकुर, जितेंद्र शर्मा, रजनीश महाजन, प्रवीण राणा, हरदेव चौधरी रणेश राणा, राजन नेगी, संजीव ठाकुर, ऋषि ठाकुर, पवन कुमार, राकेश धीमान, कर्ण धीमान, राजीव खामोश, देवेंद्र डोगरा, हरिराम धीमान, ओमपाल सिंह, सलीम कुरैशी, सुमित शर्मा, कपिल शर्मा आदि ने बेव बैठक में भाग लिया।