सिरमौर में 1 से 7 अप्रैल तक कोरोना संक्रमण का घर-घर जाकर किया जाएगा सर्वे – डॉ परूथी

Local News नाहन स्वास्थ्य हिमाचल

सिरमौर न्यूज़ / नाहन

हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों अनुसार कोरोना वायरस को लेकर जिला सिरमौर में स्वास्थ्य विभाग द्वारा 1 अप्रैल से 7 अप्रैल 2020 तक एक्टिव केस फाइंडिंग (एसीएफ) अभियान चलाया जाएगा जिसके अंतर्गत कोरोना संक्रमण की जांच को लेकर घर-घर जाकर सर्वे किया जाएगा। इस आशय की जानकारी उपायुक्त सिरमौर डॉ आर के परुथी ने आज यहाँ आयोजित जिला टास्कफोर्स समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी।

उन्होंने बताया कि सर्वे की जिम्मेदारी आशा वर्कर्स व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को दी जा रही है जिनके द्वारा 616 आशा गांवों में हरेक व्यक्ति की ट्रेवल हिस्ट्री व स्वास्थ्य की जांच कि जाएगी। सर्वे का कार्य सुबह 9 से शाम 4 बजे के बीच किया जाएगा और प्राप्त जानकारी को गूगल फार्म में भरा जाएगा। शाम साढ़े 4 बजे के बाद कोई फार्म नहीं भरा जाएगा। सर्वे टीम घर-घर जाकर परिवारों को कोरोना वायरस से बचने की जानकारी के साथ ही मास्क के सही तरीके से निष्पादन पर भी जागरूक करेगी और कोरोना वायरस के लक्षणों और सावधानियों से सम्बंधित जागरूकता सामग्री भी वितरित करेगी। उन्होंने बताया की सर्वे टीम की निगरानी खंड स्तर पर खंड चिकित्सा अधिकारी द्वारा की जाएगी और जिला स्तर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी व जिला निगरानी अधिकारी द्वारा की जाएगी। हर रोज एक खंड स्तरीय निगरानी टीम कम से कम 10 घरों में जाकर यह सुनिश्चित करेगी की सर्वे टीम द्वारा सर्वे किया गया है।   

टीम द्वारा सर्वे किए गए घरों को सी-1, सी-2, सी-3 में वर्गीकृत किया जाएगा। पिछले 28 दिन में अंतरराष्ट्रीय यात्रा करने वाले व कोरोना पॉजीटिव लोगों के संपर्क में आने वाले लोग जिन्हे निगरानी में नहीं रखा गया है, उन्हें ए,बी,सी केटेगरी में पूरी जानकारी के साथ आवश्यक कार्यवाई के लिए रखा जाएगा। टीम द्वारा ऐसे सभी केसेस जिनमें कोरोना जैसे लक्षण पाया गया है लेकिन जिनकी कोई ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है और जो किसी कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में भी नहीं आये, की जानकारी प्राथमिक स्वास्थ्य संस्थान के अधिकारी को दी जाएगी। उन्होंने बताया कि सर्वे टीम के लिए ट्रिपल लेयर मास्क की व्यवस्था की जाएगी। डॉ परूथी ने लोगों से अपील करते हुए कहा की वह इस सर्वे में सहयोग करें और सही जानकारी सर्वे टीम को मुहैया करवाएं ताकि कोरोना वायरस पर शीघ्रता से नियंत्रण पाया जा सके।