पांवटा थाना के पूर्व एसएचओ पर सबूत मिटाने के संगीन आरोप, दो आरोपियों को बचाने का प्रयास ।

Local News क्राइम पॉवटा साहिब हिमाचल

सिरमौर न्यूज़ , पांवटा साहिब

पावटा साहिब में 2017 में हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री, पांवटा साहिब के विधायक सहित यूथ ब्रिगेड के अध्यक्ष के अश्लील फोटो वायरल करने के मामले में पुलिस की बड़ी लापरवाही सामने आई है। इस मामले में आरोपियों के मोबाइल फोन व लेपटॉप सहित कई अहम सबूत पुलिस की जांच रिपोर्ट से गायब है। उधर इस मामले में यूथ ब्रिगेड ने आरोप लगाए हैं कि तत्कालीन थाना प्रभारी अशोक चौहान ने आरोपियों को बचाने के लिए अहम सुबूत गायब किए हैं।

हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल, पांवटा साहिब के विधायक सुखराम चौधरी सहित हिमाचल यूथ ब्रिगेड के अध्यक्ष इंद्रजीत सिंह मिक्का की अश्लील फोटो बनाकर पोस्ट करने के मामले में आरोपियों को बचाने के गंभीर आरोप लगे हैं। आरोप पांवटा साहिब थाना के तत्कालीन थाना प्रभारी अशोक चौहान पर लगे हैं। सबूतों को मिटाने के आरोपों का खुलासा यूथ ब्रिगेड के अध्यक्ष इंद्रजीत सिंह मिक्का ने यहां एक पत्रकार वार्ता के दौरान किया। अध्यक्ष ने कहा कि पूर्व थाना प्रभारी ने ना सिर्फ सुबूत मिटाने का प्रयास किया है बल्कि उच्च न्यायालय को भी गुमराह करने का प्रयास किया है। इंद्रजीत सिंह मिक्का ने बताया कि थाना प्रभारी ने आरोपियों को बचाने के लिए उनके मोबाइल फोन और लैपटॉप जप्त नहीं किए जबकि अन्य 9 लोगों के मोबाइल ज़ब्त किए गए। इसका खुलासा तब हुआ जब हाईकोर्ट ने इस मामले में पुलिस की जांच रिपोर्ट तलब की। उस रिपोर्ट में मुख्य आरोपियों जिसमे से एक न्यूज़ वेबसाइट संचालक है और दूसरा ट्रांसपोर्टर है उनके मोबाइल फोन और लैपटॉप और इसकी फॉरेंसिक जांच का कोई फिक्र नहीं था।
इंद्रजीत सिंह मीका ने बताया कि पुलिस इंक्वायरी में जरूरी सबूत नहीं जुटाना और सबूतो को नष्ट कर देना बेहद गंभीर मामला है और इसमें पुलिस अधिकारी सीधे तौर पर शामिल है। उन्होंने बताया कि उच्च न्यायालय की जवाब तलबी के बाद हालांकि अब पुलिस ने इस मामले में सबूतों के साथ छेड़छाड़ और सुबूत नष्ट करने की धाराएं भी लगा दी है लेकिन पूर्व थाना प्रभारी अशोक चौहान के खिलाफ अभी तक कोई कार्यवाही शुरू नहीँ हुई है। जबकि इस बात की जांच होना बेहद जरूरी है की पूर्व थाना अध्यक्ष ने इस तरह का कृत्य क्यों किया। इंद्रजीत सिंह मिक्का ने प्रधानमंत्री पूर्व मुख्यमंत्री और पांवटा साहिब के विधायक की अश्लील फोटो बनाने और प्रसारित करने के संगीन मामले की उच्च स्तरीय जांच और पूर्व थाना प्रभारी अशोक चौहान के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग की है।