sirmour news

सिविल अस्पताल में मौत , परिजनों ने चिकित्सक व स्टाफ नर्सों पर लगाया लापरवाही का आरोप

क्राइम हिमाचल

सिरमौर न्यूज़ – पांवटा साहिब

सिविल अस्पताल पांवटा साहिब के सड़क दुर्घटना में घायल हुए व्यक्ति की मौत हो गई। मृतक के परिजनों ने चिकित्सक व नर्सिंग स्टाफ पर लापरवाही और समय पर सही ईलाज न करने के गंभीर आरोप लगाए है।
मामला बुधवार सुबह सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति को समय से उपचार न मिलने के बाद मौत से जुड़ा है। नाहन-पांवटा एनएच-07 पर सूरजपुर में सड़क हादसा पेश आया जहां ईंटों से भरे एक ट्रैक्टर और नैनो कार की टक्कर हो गई जिसके बाद अनियंत्रित ट्रैक्टर की ट्राली ने तिरुपति कंपनी से छुट्टी कर वापस लौट रहे 44 वर्षीय शौकत अली पुत्र सरफूदीन निवासी ग्राम संतोषगढ़ को टक्कर मार दी। जिसके बाद ट्रैक्टर में लदी ईटें उस पर गिर गई जिस कारण उसकी छाती की काफी पसलियां टूट गई और उसके सर व पैर में चोटें आ गई। घायल को ऐंबुलेंस की मदद से सिविल अस्पताल लाया गया जहाँ उसकी मौत हो गई।
परिजनों ने घायल की हुई इस मृत्यु का जिम्मेदार बेपरवाह नर्सिंग स्टाफ और चिकित्सक को ठहराया है जिसके बाद उन्होंने अस्पताल परिसर में खूब हंगामा किया जिसके चलते अस्पताल में थाना प्रभारी सहित भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया।

नर्स मोबाइल पर फेसबुक व गेम खेलने में रही व्यस्त , घायल ने तोडा दम

चिकित्सक सहित स्टाफ नर्सों पर लापरवाही के गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि करीब 1 घंटा घायल की अनदेखी की गई जहां एक और ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर सीटी स्कैन लिखकर सीट से गायब हो गए वहीं स्टाफ नर्स मोबाइल पर फेसबुक व गेम खेलने में व्यस्त रही, कई बार बोलने के बाद भी घायल को ऑक्सीजन मास्क नहीं लगाया गया हारकर अस्पताल सिक्योरिटी गार्ड व परिजन स्वयं ही ऑक्सीजन मास्क लगाने की मशक्कत करते रहे इस सभी के बीच सीटी स्कैन के बाद घायल की हालत गंभीर होती देख डॉक्टर ने उसे तुरंत रेफर करने को लिख दिया जिसके बाद अस्पताल पहुंचाए जाने के करीब डेढ़ घंटे बाद उसकी अस्पताल में ही मृत्यु हो गई। उसके बाद परिजनों द्वारा अस्पताल परिसर में खूब हंगामा किया गया तथा डॉक्टरों व नर्सों के खिलाफ नारेबाजी भी की गई तनाव बढ़ता देख मौके पर पुलिस बल तैनात कर दिया गया। मामला शांत होने के बाद मृतक के शव का पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सौंप दिया गया।

अस्पताल इंचार्ज ने सिरे से ख़ारिज किये आरोप कहा मामले की होगी जांच

वहीं इस सारे मामले पर एसएमओ डॉक्टर संजीव सहगल ने बताया की घायल को उपचार दिया गया। सिटी स्कैन की रिपोर्ट आने से पहले ही करीब 9 बजे उसकी मृत्यु हो गई थी। उन्होंने कहा कि मामले की जांच की जाएगी यदि उनके स्टाफ में किसी भी डॉक्टर या नर्स की कार्यप्रणाली में कमी पाई गई तो तुरंत कार्यवाही की जाएगी। अस्पताल में मोबाइल के इस्तेमाल पर प्रतिबन्ध लगाया गया है लेकिन फिर से स्टाफ को कड़े निर्देश जारी किये जायेगे।