पूर्व एसडीएम पावंटा साहिब पूछताछ के लिए हिरासत में , दो दलाल किए गिरफ्तार

हिमाचल

सिरमौर न्यूज़/पावंटा साहिब

पांवटा साहिब में एक स्टोन क्रशर के निरीक्षण रिपोर्ट मामले में स्टेट विजीलेंस व एंटी क्रप्शन ब्यूरो की टीम ने बुधवार को बड़ी कार्रवाई की है। टीम ने पावंटा साहिब से एक दलाल को एक लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया है। वहीं दूसरे दलाल को भी टीम ने पावंटा से ही पकड़ा है। एंटी करप्शन की टीम ने दोनों को गिरफ्तार कर हमीरपुर ले गई है। इसी मामले में पावंटा के पूर्व एसडीएम को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। यह मामला पावंटा में एसडीएम रह चुके एचएस राणा से जुड़ा हुआ बताया जा रहा है। स्टोन क्रशर की निरीक्षण रिपोर्ट पर हस्ताक्षर को लेकर एंटी करप्शन की टीम इस मामले में बड़ी कार्रवाई अमल में लाई है । बताया जा रहा है कि निरीक्षण रिपोर्ट पर एसडीएम के हस्ताक्षर करवाने को लेकर एक लाख रुपए की राशी मांगी गई थी। बुधवार को इस रिपोर्ट पर हस्ताक्षर की डील फाइनल होनी थी की इससे पहले एंटी करप्शन की टीम ने अपना जाल बुन लिया ।

बताया जा रहा है कि यह मामला 2017 से पहले शुरू हुआ था। इस दौरान पांवटा साहिब के एसडीएम के पद पर एचएस राणा तैनात थे। एक स्टोन क्रशर की निरीक्षण रिपोर्ट पर कमेटी के सभी सदस्यों ने अपने हस्ताक्षर कर लिए थे लेकिन तत्कालीन एसडीएम ने इसे पेंडिंग रखा हुआ था। बताया जा रहा है कि इस डील पर 1 लाख रुपये की डिमांड हुई थी। बुधवार को दलाल शुलभ अग्रवाल ने शिकायतकर्ता से रितेश बंसल को आज एक लाख रुपए देने को कहा था। इस दौरान पावंटा साहिब में एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम ने दलाल को रंगे हाथों गिरफ्तार किया है।

हमीरपुर के डीएसपी स्टेट विजीलेंस व एंटी क्रप्शन ब्यूरो बीडी भाटिया ने कहा कि इस मामले में बुधवार को दो दलालों को गिरफ्तार किया है। मामले की जांच गहनता से की जा रही है।