मांग पूरी नही हुई तो जल्द होगा आंदोलन, बैठक के दौरान दलित साहित्य अकादमी व हिमाचल किसान सभा ने उठाई ये मांग

सरकार हिमाचल

सिरमौर न्यूज़, पांवटा साहिब
हिमाचल किसान सभा व दलित साहित्य अकादमी द्वारा के बैठक का आयोजन किया। इस बैठक में सभा ने प्रदेश सरकार से मांग की है कि सरकारी भूमि पर बैठे गरीब कब्जाधारी किसानों को जल्द भूमि प्रदान करे। बैठक मेंं निर्णय लिया गया कि यदि सरकार इस मांग को जल्द पूरी नही करेगी तो व आंदोलन के लिए मजबूर हो जाएंगे। इस बैठक की अध्यक्षता अकादमी के प्रदेशाध्यक्ष रतन चंद रोजे ने की। बैठक मे कहा गया कि बरसों से कब्जे बहाल करने की मांग कर रहे गरीब भूमिहीनो को यदि प्रताडि़त करना बंद नही किया गया तो आंदोलन होगा। बैठक के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को एसडीएम के मार्फत एक मांग पत्र भी भेजा गया। ज्ञापन में कहा गया है कि प्रदेश के कईं हिस्सों में गरीब किसान दशकों से सरकारी भूमि पर बैठे हैं। कईं कब्जे तो आजाद हिंदुस्तान से भी पहले के हैं। इसलिए ये जमीन उन किसानों के नाम कर उनके कब्जे बहाल किये जायें। और उन्हे बेवजह परेशान न किया जाए। उन्होंने कहा कि किसानों पर बैंक कर्जों का बोझ पड़ गया है जिससे किसानो ने खेती से मुंह मोड़ लिया है और आत्महत्या को मजबूर हो रहे हैं। इसलिए कर्ज माफी की जानी चाहिए, वही मांग की गई कि माननीय उच्चतम न्यायलय के आदेशानुसार प्रदेश सरकार भूमिहीनो, कब्जाधारी, पटटेधारी किसानो के कब्जे बहाल करें। और हर किसान को 5 बीघा भूमि सुनिष्चिक करें। इस मौके पर दलित साहित्य अकादमी के प्रदेष अध्यक्ष रतन चंद रोजे, जिला सचिव सूरत सिंह, हिमाचल किसान सभा के जिला सचिव गुरविन्द्र सिंह, पांवटा तहसील कमेटी प्रधान ओमप्रकाष चौधरी, सचिव जगदीष चंद, काबुलदीन आदि सहित अनैकों सदस्य मौजूद रहे।