पांवटा को रेलवे ट्रैक का तोहफा मिलने की जगी उम्मीद

राजनीति सरकार हिमाचल

सिरमौर न्यूज़ / पांवटा साहिब

ऐतिहासिक व धार्मिक नगरी पांवटा साहिब को रेलवे नेटवर्क से जोड़ने की उम्मीद फिर से जगने लगी है। दशकों से चली आ रही इस मांग के चलते जल्द ही पांवटा साहिब को रेलवे ट्रैक का तोहफा मिल सकता है।
केंद्रीय रेल राज्य मंत्री राजेन गोहेन द्वारा सांसद वीरेंद्र कश्यप के एक प्रश्न के जवाब में मिली जानकारी के अनुसार प्रदेश की प्रमुख धार्मिक पर्यटन नगरी व औद्योगिक क्षेत्र पावंटा साहिब जल्द ही रेल कनेक्टिविटी से जुड़ने जा रहा है। रेलवे मंत्रालय ने काफ़ी सोच-विचार के बाद पिहोवा-जगाधरी-यमुनानगर से इसे जोड़ने की कवायद शुरू कर दी है। 145 किलोमीटर लंबी इस रेल लाइन के निर्माण पर 1 हज़ार 954 करोड़ रुपए खर्च होंगे। प्रस्तावित रेलवे प्रोजेक्ट के तकनीकी व आर्थिक पहलुओं पर विचार के बाद अमलीजामा पहनाया जाएगा। रेल राज्य मंत्री ने बताया कि सिखों के प्रसिद्ध धार्मिक पर्यटन स्थल को रेल नेटवर्क से जोड़ने के लिए दो सर्वे किये गए। पहला सर्वे घनौली से बद्दी-नालागढ़-जगाधरी-सूरजपुर-कालाअंब-पावंटा साहिब होते हुए देहरादून तक किया गया था।
बताते चले की इस मामले को लेकर स्थानीय विधायक सुखराम चौधरी ने भी विधानसभा के शीतकालीन सत्र में प्रश्न उठाया था। पांवटा साहिब को रेलवे लाइन से जोड़ने की मांग को कई बार सांसद वीरेंदर कश्यप भी केंद्र के समक्ष रख चुके है। फिलहाल पांवटा साहिब की जनता को उम्मीद lकी नई किरण जरूर नज़र आ रही है साथ ही जनता को संदेह भी है की कहीं आगामी लोकसभा चुनाव के चलते सरकार का यह जुमला साबित न हो।