गरमाने लगा पांवटा साहिब नगर का प्रस्तावित फॉरलेन मुद्दा

सरकार हिमाचल

सिरमौर न्यूज़ / पांवटा साहिब

पांवटा साहिब नगर के बीच से प्रस्तावित फॉरलेन निर्माण को लेकर व्यापार मंडल के बाद अब नगर की सामाजिक संस्थाएं भी इस मामले को लेकर मैदान मे उतर गई है। इसी सिलसिले में सिरमौर नागरिक कल्याण समीति द्वारा बुलाई गई।

सामाजिक-धार्मिक-व्यापारिक संगठनो की बैठक मे बैठक मे सिनियर सिटिजन काउंसिल, कंज्युमर प्रोटेक्शन सोसाईटी, पैंशनर्स वैलफेयर एसोसिएशन, ऑफिसर्ज वैलफेयर ऐसोसिएशन, एचपीएसईबी वैलफेयर ऐसोसिएशन, हिमाचल प्रदेश राजकीय सेवानिवृत अध्यापक संघ, सनातन धर्म सभा, गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी, ब्रहामण सभा, यूपी कल्याण सभा, लायन्स क्लब, रोटरी क्लब, महाराजा अग्रसेन सभा, राजपूत सभा, बाल्मिकी कल्याण सभा, हाटी समीति, भारत विकास परिषद, दून प्रेस क्लब, पांवटा प्रेस क्लब, हिमोत्कर्ष संस्था, ग्रीन पांवटा क्लीन पांवटा, व्यापार मंडल, हिमाचल चेंबर ऑफ कामर्स, हेमकुंड मैत्री जन कल्याण सभा और रोड सेफटी क्लब पांवटा आदि संस्थाओं के पदाधिकारियों ने भाग लिया।
रविवार को पांवटा साहिब के लोनिवि विश्राम गृह मे सिरमौर नागरिक कल्याण समीति ने एक बैठक का आयोजन किया। जिसमे नगर की दो दर्जन से अधिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। इस बैठक मे सर्वसम्माति से निर्णय लिया गया कि फॉरलेन के मुददे पर सभी एकजुट होकर एनएच प्रधिकरण से इसका विकल्प तलाश कर बाईपास बनाने की मांग को लेकर आगे की रणनिति तैयार करेगा। इसके लिए बाकायदा एक एक्शन कमेटी का भी गठन किया गया जो इस मामले के बारे मे सरकार और एनएच ऑथोरिटी के सपर्क मे रहकर इसका बिकल्प तलाशने के लिए बातचीत करेगी। इस बैठक मे चर्चा हुई कि यदि फॉरलेन नगर के बीचोंबीच बनता है तो इससे भारी तबाही होगी। आधे से ज्यादा शहर उजड़ जायेगा। जिससे धार्मिक नगरी का अस्तित्व खतरे मे आ जाएगा। इस दौरान विभिन्न संस्थाओं ने अपने सुझाव रखे। जिसमे ब्रहामण सभा के अध्यक्ष अजय शर्मा ने सुझाव दिया कि एनएच प्रधिकारण बाईपास का विकल्प तलाश सकती हैं इसके लिए यहां के केदारपूर से तिब्बतियन स्कूल होते यमुना किनारे स्वर्गधाम तक बनाया जा सकता हैं। यहां से यमुना नदी पर पुल बनाकर उत्तराखंड से एनएच जुड़ सकता है।
बताते चलें की रामपुरघाट से वैसे भी विकासनगर के लिए एक पुल प्रस्तावित है , यदि इस पर भी कार्य हो तो पांवटा साहिब फोर लेन की चपेट में आने से बच सकता है। इसके अतिरिक्त एक बिकल्प नाहन एनएच से संतोषगढ़ किशनपुरा पुल होते हुए औद्योगिक क्षेत्र गोंदपूर और यहां से निहालगढ़ होते हुए रामपुरघाट यमुना नदी तक बाईपास लाया जा सकता है। इस पूरे मामले को प्रदेश सरकार के संज्ञान में लाने की तेयारी की जाएगी यदि आवश्यकता पड़ी तो केंद्र सरकार से भी संस्थाओं के प्रतिनिधि बातचीत करने की ठान चुके है।