शाम होते ही सरकारी रेस्ट हाउस में भाजपा के विस्तारकों की सजती है शराब की महफिल

भाजपा राजनीति हिमाचल

सिरमौर न्यूज़ /पांवटा साहिब

पांवटा साहिब विश्राम गृह में पिछले करीब 9 दिनो से भाजपा के विस्तारक डेरा डाले हुए हैं। आधे से ज्यादा कमरे इनके पास ही हैं जिसमे पार्टी मजबूती के कार्य चल रहे हैं। इतने दिनो से 6 कमरे बुक होने से दूसरे जिलों से आने वाले कर्मचारियों और लोगों को जरूरत के समय कमरे नही मिल पा रहे हैं। इतना ही नहीं प्रतिदिन शाम होते ही विश्राम गृह में चारों ओर शराब की बोतलें और हल्ला गुल्ला करते भाजपा के विस्तारक दिखाई देने लगते हैं। यहां विस्तारकों को दिए गए कमरों के साथ साथ मीटिंग हॉल व डाइनिंग हॉल में भी सरेआम शराब की महफिल सजती है और फिर देर रात तक शोर शराबा चलता रहता है। कांग्रेस पार्टी सहित स्थानीय लोग भी कहते सुनाई दे रहे हैं कि भाजपा ने सरकारी विश्राम गृह को अपना कार्यालय बनाने लिया है। चुनाव के दौरान अक्सर सत्तासीन राजनैतिक दल पर सरकारी मशीनरी का दुरूपयोग करने के आरोप लगते हैं। हालांकि अभी लोकसभा चुनाव को काफी समय है लेकिन उससे पहले ही भाजपा पर पार्टी को मजबूत करने के लिए सरकारी विश्राम गृह को अपना कार्यालय बनाने के आरोप लग रहें हैं। आरोप कांग्रेस लगा रही है कि भाजपा सरकारी मशीनरी का पार्टी के कार्यो के लिए इस्तेमाल कर रही है। पांवटा साहिब के पूर्व विधायक चौधरी किरनेश जंग ने आरोप लगाते हुए कहा की सत्ता में आते ही भाजपा ने नेता व कार्यकर्त्ता सरकारी मशनरी का जम कर दुरपयोग करते है। अधिकारी इनकी दहशत के कारण इनके आगे बेबस है। देश के इतने बड़े राजनैतिक दल के नेताओं व् कार्यकर्ताओं नियम कानूनों की सरेआम धज्जियां नहीं उड़ानी चाहिए।

जिसकी चलती है उसकी क्या गलती है रेस्ट हाउस पर तो अब भाजपा का ही कब्जा है।

जानकारी के मुताबिक गत 13 दिसम्बर से भाजपा के विस्तारक यहाँ डेरा डाले हुए हैं। इनके पास ग्राउंड फ्लोर के 11 से लेकर 14 नंबर कमरे सहित पहली मंजिल पर 5 और 6 नंबर कमरे हैं। इसके बाद बचे 1, 4 और 7 नंबर कमरे वीआईपी हैं जो आम आदमी को नही मिलते। 2 और 3 नंबर कमरे बड़े अधिकारियों के लिए भी रखने पड़ते हैं। ऐसे मे लोनिवि के अधिषासी अभियन्ता भी परेशानी मे जरूर होंगे, भले ही वह सत्तासीन भाजपा नेताओं के आगे कुछ कह न पाते हों। यही नही ग्राउंड फ्लोर का एक कमरा तो परमानेंट ही भाजपा नेता के चालक के लिए रखे जाने की भी सूचना है। ऐसे मे आम कर्मचारी जरूरत के समय जायें तो जायें कहाँ। जानकारी के मुताबिक विश्राम गृह मे तीन दिन से ज्यादा का एक कमरे का परमिट नही मिलता। लेकिन यहां तो पिछले 10 दिनों से पूरे विश्राम गृह में प्रत्येक कमरा भाजपा के विस्तारको ने कब्जा रखा है।

कांग्रेस पार्टी के पदाधिकारियों का आरोप है की भाजपा जीतने के लिए हर प्रकार के हथकंडे अपना रही है। पार्टी मजबूती के लिए सरकारी विश्राम गृह को अपना कार्यालय बना लिया है जो की निंदनीय है। अधिकारी भी सत्तासीन पार्टी के दबाव में मौन धारण करे हुए हैं।

” भाजपा के विस्तारक 22 दिसम्बर तक विश्राम गृह के 6 कमरों में ठहरे हुए हैं जिनके परमिट काटे गए हैं“- अजय शर्मा, अधिषासी अभियन्ता लोनिवि पांवटा मंडल