पूर्व विधायक जगत सिंह नेगी पंचतत्वों में विलीन

हिमाचल

सिरमौर न्यूज़ / पांवटा साहिब

शिलाई के पूर्व विधायक जगत सिंह नेगी पंचतत्वों में विलीन हो गए है। पांवटा साहिब में यमुना नदी के किनारे उनका विधिवत अंतिम संस्कार हुआ। मंगलवार सुबह से उनके अंतिम दर्शन के लिए उनके हज़ारों समर्थकों सहित कई गणमान्य हस्तियां पांवटा साहिब पहुंची थी जिन्होंने श्री नेगी को श्रद्धांजलि दी। अंतिम दर्शन के लिए उनके निवास स्थान पर लोगो का जमावड़ा लगा रहा ,यमुना तट पर अंतिम संस्कार तक हज़ारो की संख्या में लोग जुटे रहे। उनके चाहने वालों ने नम आंखों से अंतिम विदाई दी ,यमुना तट पर राजेंद्र नेगी व सुरेंद्र नेगी ने उनको मुखाग्नी दी।

हिमाचल प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष डाॅ राजीव बिंदल सहित पूर्व विधानसभा अध्यक्ष राधारमण शास्त्री, पूर्व मंत्री श्यामा शर्मा, राज्य सहकारी बैंक के अध्यक्ष खुशी राम बालनाहटा, पांवटा साहिब के विधायक सुखराम चौधरी, शिलाई के विधायक हर्ष वर्धन चौहान, पूर्व विधायक चौधरी किरनेश जंग, अजय बहादुर, फतेह सिंह मेहरालू आदि शामिल रहे। स्वर्गीय जगत सिंह नेगी की अंतिम यात्रा उनके घर से निकली और बाजार होते हुए यमुना नदी के किनारे पंहुची। इस यात्रा में हजारों की संख्या में लोग शामिल हुए और जगत सिंह नेगी अमर रहे के नारे लगाते रहे। यहा पर उनके पुत्र राजेन्द्र सिंह नेगी और सुरेन्द्र नेगी ने उन्हे मुखाग्नि दी। गोर हो कि 74 वर्षिय शिलाई के पूर्व विधायक जगत सिंह नेगी का सोमवार शाम को दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में उपचार के दौरान देहांत हो गया था। उनके निधन पर भाजपा चुनाव प्रकोष्ठ के प्रदेश प्रभारी हीरानंद कश्यप, पांवटा के विधायक सुखराम चौधरी, शिलाई के विधायक हर्षवर्धन चौहान, पूर्व विधायक किरनेश जंग, शिलाई मंडल भाजपा के अध्यक्ष सूरत सिंह चौहान, पूर्व अध्यक्ष सोभाराम चौहान, पांवटा मंडल के अध्यक्ष देवेंद्र चौधरी, महामंत्री अरविंद गुप्ता, भाजपा नेता मदन मोहन शर्मा, जिला भाजयूमो के अध्यक्ष कुलदीप राणा, नरेंद्र ठाकुर, पवन चौधरी, पांवटा कांग्रेस के अध्यक्ष अश्वनी शर्मा, अधिवक्ता राजेंद्र शर्मा, महिला मोर्चा पांवटा की अध्यक्ष शिवानी वर्मा, सरदार हरप्रीत सिंह रतन, पंचायत प्रधान राममलाल शर्मा, लाल सिंह चौहान, रतन सिंह चौहान, गीताराम ठाकुर, शेर सिंह नेगी, सुरेद्र तोमर समेत कांग्रेस व भाजपा के नेताओं ने गहरा शोक व्यक्त किया है। उनके निधन से पांवटा व शिलाई समेत पूरे क्षेत्र में शोक की लहर है।