बीजेपी कार्यकर्ताओं को प्रेरित करने सिरमौर पहुंचे एचएन कश्यप

भाजपा सरकार हिमाचल

सिरमौर न्यूज़ / पांवटा साहिब
सोलन में आगामी 23 दिसम्बर को आयोजित होने जा रहे शिमला संसदीय क्षेत्र के पन्ना प्रमुख सम्मेलन को लेकर कार्यकर्ताओं को प्रेरित करने के लिए एचएन कश्यप सिरमौर दौरे पर निकले है। इस सम्मलेन में करीब 40 हजार पन्ना प्रमुख भाग लेंगे। सम्मेलन को सफल बनाने के लिए भाजपा ने पूरी ताकत झोंक दी है। इस सिलसिले में कार्यकर्ताओं को प्रेरित करने के लिए प्रदेश भाजपा चुनाव संयोजक हीरानंद कश्यप ने पांवटा व शिलाई क्षेत्र के दौरे के दौरान पांवटा साहिब में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि शिमला संसदीय क्षेत्र में 40 हजार पन्ना प्रमुख हैं और सभी पन्ना प्रमुख इस सम्मेलन में भाग लेंगे।

यहां पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा कांग्रेस को कड़ी चुनौती पेश करने वाली है। चुनाव में भाजपा के पन्ना प्रमुख पार्टी और उसकी नीतियों को को घर-घर तक पहुंचाने का काम में जुटे हैं। ऐसे में हिमाचल प्रदेश की चारों सीटें भाजपा की झोली में डालना ही लक्ष्य है। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि शिमला संस्दीय क्षेत्र में मौजूदा समय में कुल बूथ 2006 हैं जिसमें 12 लाख 4,281 कुल वोटर हैं। इनमें से पुरूष 6 लाख 24,717 व महिलाऐं 5 लाख 79,551 तथा थर्ड जेंडर के 13 वोटर हैं।

भाजपा टिकट मे बदलाव करती है तो प्रबल दावेदार है एचएन कश्यप

पत्रकारों के सवाल के जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि यदि भाजपा टिकट मे बदलाव करती है तो इस बार शिमला संसदीय क्षेत्र से उनका नंबर सबसे उपर है। एचएन कश्यप ने कहा कि उनकी दावेदारी पुख्ता है और उन्हें पूरी उम्मीद है पार्टी उनकी सेवाओं और कार्यों को देखते हुए चुनाव लड़ने का मौका देगी।
बता दें कि वर्तमान में भाजपा के प्रदेश चुनाव संयोजक हीरानंद कश्यप सन 2004 में शिमला संसदीय क्षेत्र से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ चुके हैं जिसमें उन्हें कांग्रेस के उम्मीदवार कर्नल धनीराम शांडिल के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। एचएन कश्यप ने चुनाव उन परिस्थितिओं में लड़ा था जब प्रदेश में बीजेपी की स्थिति बहुत खराब थी। खासकर शिमला संसदीय क्षेत्र जो की कांग्रेस का गढ़ रहा वहां से चुनाव लड़ना अपने आप में एक बड़ा जोखिम था। बीजेपी के कहने पर अपनी नौकरी छोड़ कर कश्यप चुनावी मैदान में उतरे थे। इसके साथ ही एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि सन 2009 में तत्कालीन भाजपा प्रदेश अध्यक्ष जय राम ठाकुर द्वारा यह कहकर उनका टिकट काट दिया गया था की यह मुख्यमंत्री का विषय है। हीरानंद कश्यप ने कहा कि वह पिछले 12 वर्षों से तन मन धन से पार्टी को समर्पित है और अब यदि वर्तमान मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर उन्हें उनकी पार्टी भक्ति का फल देना चाहते हैं तो टिकट में बदलाव होने की स्थिति में उन्हें यह जिम्मेदारी सौंपी जानी चाहिए।