पॉलटेकनीक कॉलेज में अगले सत्र से आंरभ होगे दो नए विषय -विक्रम ठाकुर

शिक्षा सरकार

सिरमौर न्यूज़ / पांवटा साहिब
राजकीय बहुतकनीकी संस्थान धौलाकुआं के द्वितीय खण्ड का लोकार्पण सोमवार को विधानसभा अध्यक्ष डॉ0 राजीव बिंदल और उद्योग, तकनीकी शिक्षा मंत्री, बिक्रम सिंह ठाकुर द्वारा संयुक्त रूप से किया गया जिस पर 3 करोड़ 75 लाख की राशि की व्यय की गई । इस भवन का निर्माण कार्य भारत दूरसंचार निगम द्वारा किया ।
इस अवसर पर संबोधित करते हुए उद्योग मंत्री ने कहा कि पांवटा बहुतकनीकी संस्थान में आगामी शैक्षणिक सत्र से ऑटोमोबाईल और इलेक्ट्रिकल इंजीनियर की कक्षाऐं आरंभ की जाएगी ताकि इस क्षेत्र के युवाओं को अपने घरद्वार पर ऑटोमोबाईल और इलेक्ट्रिकल विषय में डिप्लोमा करने की सुविधा उपलब्ध होगी । उन्होने कहा कि इन दोनोें विषय में 60-60 सीटों का प्रावधान किया गया है और इन पाठयक्रमों केे लिए आवश्यक मशीनरी खरीदने के लिए एक करोड़ 90 लाख की राशि स्वीकृत कर दी गई है ।
उन्होने कहा कि पॉलटेकनीक कॉलेज एक ऐसा संस्थान है जिसमें तकनीकी शिक्षा ग्रहण करके युवा स्वाबलंबी बनते है । उन्होने श्रम एवं रोजगार विभाग को निर्देश दिए कि जिला में स्थापित उद्योगों में 80 प्रतिशत हिमाचली युवाओं को रोजगार सुनिश्चित किया जाए तथा उद्योगों में कार्य करने वाले सभी कामगारों को आधार कार्ड के साथ जोड़ा जाए ताकि सभी कामगारों को तय निर्धारित मजदूरी मिल सके । उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा युवाओं को स्वरोजगार उपलब्ध करवाने के लिए मुख्यमंत्री स्वाबलंबन योजना आरंभ की गई है जिसमें युवाओं को अपना रोजगार स्थापित करने के लिए उदारता से ऋण व अनुदान प्रदान किया जा रहा है ।
डॉ0 राजीव बिंदल ने अपने संबोधन में कहा कि तकनीकी शिक्षा एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें रोजगार के अवसर सर्वाधिक उपलब्ध है और प्रदेश सरकार द्वारा भी तकनीकी शिक्षा को बढ़ावा देने पर विशेष बल दिया जा रहा है । उन्होने बहुतकनीकी संस्थान की सड़क को पक्का करने के लिए धनराशि स्वीकृत करने का आग्रह किया । उन्होने कहा कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल नाहन निर्वाचन क्षेत्र में विकास के नए आयाम स्थापित हुए है और दस माह के छोटे से कार्यकाल में करोड़ों की योेजनाऐं सरकार द्वारा नाहन निर्वाचन क्षेत्र के लिए स्वीकृत की है ।
पांवटा के विधायकसुखराम चौधरी ने उद्योग मंत्री से कहा कि जिला और विशेषकर पांवटा क्षेत्र में खाद्यान्न पर आधारित उद्योग स्थापित करने की अपार संभावनाऐं मौजूद है तथा इस क्षेत्र में खाद्यान्न और फलों पर आधारित उद्योग स्थापित करने के लिए विशेष पग उठाए जाऐं ।