पेइंग गेस्ट हाउस के अंदर चल रहा था जिस्मफरोशी का धंधा

क्राइम

सिरमौर न्यूज़ / पांवटा साहिब
पांवटा साहिब में एक पेइंग गेस्ट हाउस के अंदर चल रहे सेक्स रैकेट का जिला पुलिस ने देर रात भांडाफोड़ किया। जिला पुलिस ने पांवटा पुलिस के साथ मिलकर पीजी पर छापा मारा। इस दौरान यहां दो लड़कियों और सात लोगों को संदिग्ध अवस्था में गिरफ्तार किया। पुलिस की जांच में इस मामले में मानव तस्करी की बात भी सामने आई है। उधर इस प्रकरण में पांवटा के एक पुलिस अधिकारी की पीजी संचालक के साथ सांठगांठ को लेकर भी शिकायत हुई है।

पांवटा साहिब के महाराणा प्रताप चौक पर स्थित ” हम तुम पीजी” में जिस्मफरोशी का धंधा पिछले लंबे समय से चल रहा था। यहां जिस्मफरोशी का धंधा सुनियोजित ढंग से चलाया जा रहा था। मामला पांवटा पुलिस के संज्ञान में भी था लेकिन कार्रवाई नहीं की जा रही थी। ऐसे में एसपी के आदेशों पर जिला पुलिस ने पीजी पर रेड डाली और दो लडकियों को सात लोगों के साथ गिरफ्तार किया। जबकि पीजी का संचालक अभी तक पुलिस के हत्थे नहीं चढा है। शुरूआती रेड के दौरान मामला जिस्मफरोशी का ही नजर आ रहा था लेकिन पुलिस जांच में चैंकाने वाला खुलासा हुआ है। पीजी के भीतर सैक्स रैकेट के साथ साथ मानव तस्करी की भी साजिश रची जा रही थी। हालांकि लडकियों की खरीद फरोख्त कोन लोग कर रहे थे। इस सब गोरख धंधे का मास्टर माइंड कोन है, पुलिस ने अभी यह खुलासा नहीं किया है। एसपी सिरमौर रोहित मालपानी ने बताया कि मामला हयुमन ट्रेफिकिंग का है और पुलिस इस मामले में जांच कर रही है।
पीजी के भीतर पिछले लम्बे अरसे से सैक्स रैकेट संचालित हो रहा था और मामला पांवटा पुलिस के संज्ञान में भी था। लेकिन इस संबन्ध में स्थानीय पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही थी। जिससे पांवटा पुलिस की कार्य प्रणाली को लेकर सवाल उठ रहे हैं। लिहाजा यहां पीजी पर जिला पुलिस की रेड से पहले पीजी के भीतर पुलिस अधिकारी की मौजूदगी की बात को लेकर भी शिकायत हुई है। हालांकि मामले मे पुलिस कर्मियों की संलिप्ता की लिखित शिकायत हुई है लेकिन इस मामले में पूछे सवाल को जिला पुलिस अधिकक्षक टालते नजर आए। एसपी ने इतना भर कहा कि शिकायत की जांच की जाएगी।
उधर इस मामले में कार्रवाई में देरी को लेकर स्थानील लोगों में पुलिस प्रशासन के खिलाफ खासा रोश है। स्थानीय प्रधान ने बताया कि सब जानते थे कि पिछले लम्बे समय से यहां गंदा काम चल रहा है इसे बन्द किया जाना चाहिए ताकि शहर और गांव का माहौल खराब होने से बचाया जा सके।