अधिकारियों व रसूकदारों के मौज-मस्ती का अड्डा बना PWD रेस्ट हाऊस

लेटेस्ट न्यूज़

सिरमौर न्यूज़ / पांवटा साहिब
पांवटा साहिब का लोक निर्माण विभाग विश्राम गृह इन दिनों अधिकारियों और रसूखदारों की मौजमस्ती का अड्डा बना हुआ है। आये दिन यहां रसूखदार लोगो व अधिकारीयों की पार्टियां चलती रहती है ,लेकिन जब मीडिया कर्मी ने मामले की सच्चाई को जगजाहिर करने की ठान ली तो उसे छुटभैये नेताओं से धमकीभरे सन्देश मिलने शुरू हो गए है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार बीते मंगलवार को शहर के कुछ रसूकदार सम्भबतः जिले में आने वाले एक पुलिस अधिकारी के साथ कथित तौर पर शराब की पार्टी कर रहे थे। जिस पार्टी में पांवटा पीडब्लूडी के आला अधिकारी भी मौजूद थे इस बारे मिडिया कर्मियों को भनक लगी तो मामले की सचाई जानने के लिए मोके पर पहुंचे। लेकिन विश्रामगृह के कर्मियों ने इन्हे विश्रामगृह के कमरा नंबर 7 में जाने से रोक दिया। सूत्रों ने रेस्टहाउस में चल रही इस पार्टी की जानकारी मीडिया कर्मियों तक पहुंचे थी। जिस समय शराब की बोतल लेकर एक कर्मी रेस्टहाउस के कमरा नंबर 7 में प्रवेश कर रहा था उस समय रेस्टहाउस के एक कर्मचारी ने अपनी नौकरी का हवाला देते हुए मीडिया कर्मियों को फोटो खींचने से रोक दिया।
हालाँकि रेस्ट हाउस में चल रही दारू पार्टी के पुख्ता सबूत उक्त मीडिया कर्मी के पास मौजूद है जिसके आधार पर उन्होंने अधिशाषी अभियंता से इस बारे में उनका पक्ष जानने का प्रयास किया लेकिन वे स्पस्टीकरण देने में टालमटोल करते रहे साथ ही पत्रकार के एक साथी के पास ले दे कर मामला निपटाने का ऑफर भी दिया। । लेकिन बाद में अधिकारियों के कुछ खासम-खास छुटभैये नेताओं द्वारा पत्रकारों को धमकाने के अंदाज में मामले से दूर रहने की हिदायत भी दी गई।
ऐसे में पांवटा पीड्ब्ल्यूडी विभाग के आलाधिकारियों की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े हो गए हैं। साथ ही जिले में ट्रांसफर हुए उस पुलिस अधिकारी की कार्यप्रणाली भी सवालों के घेरे में आ गई है, जिसने अभी जिले में चार्ज भी नहीं लिया है और संवेदनशील पांवटा शहर में अपने यार बेलीयों के साथ शराब की पार्टियां शुरू कर दी है। सवाल यह भी उठ रहा है कि रसूखदारों के साथ इस तरह की पार्टियां करने वाले अधिकारी जनता और अपने फर्ज के साथ कितना न्याय कर पाते होंगे।
वहीं इस सारे मामले पर अधीक्षण अभियंता जिला सिरमौर महेश सिंघल ने कहा कि मामले की निष्पक्ष जांच की जायेगी। यदि कोई भी दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी।