आवारा कुत्तों के झुंड ने बछडी को उतारा मौत के घाट

क्राइम दुर्घटना लेटेस्ट न्यूज़

पांवटा साहिब के गिरिपार क्षेत्र की अंबोया पंचायत में बीती रात एक दर्दनाक हादसा हुआ है। यहां करीब आधा दर्जन आवारा कुत्तों ने एक 9 माह की बछड़ी को नोच-नोच कर मौत के घाट उतार डाला। प्राप्त जानकारी के अनुसार आवारा कुत्तों के इस झुंड ने ग्राम पंचायत अंबोया निवासी नरेंद्र कुमार पुत्र मनीराम मेहता के घर पर बनी गौशाला में आधी रात करीब 1:00 बजे हमला बोल दिया और गौशाला में बंधी करीब 9 महीने की बछड़ी को अपना निशाना बनाया। पशुओं के चीखने-चिल्लाने की आवाज़ें सुनकर नरेंद्र कुमार का परिवार तुरंत गौशाला की ओर भागा, परंतु तब तक बहुत देर हो चुकी थी। बेरहम आवारा कुत्तों ने जगह-जगह से नोचकर नन्हीं बछड़ी को मौत के घाट उतार दिया था।

पहले भी बना चुके हैं कई मवेशियों को शिकार

हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब इन आवारा कुत्तों ने किसी पशु को अपनी भूख मिटाने के लिए मौत के घाट उतारा हो। इससे पहले भी ये आवारा कुत्ते कई बार गांव की बकरियों व अन्य पशुओं को अपना निशाना बना चुके हैं। ग्राम पंचायत अंबोया के प्रधान निशिकांत ने बताया कि बीती देर रात करीब 1 बजे करीब आधा दर्जन आवारा कुत्तों ने नरेंदर कुमार के घर के साथ बनी गौशाला में घुसकर एक 9 माह की बछड़ी को निशाना बनाया है। बेरहम शिकारी कुत्तों ने बछड़ी को गर्दन, छाती, पेट व टांगों से नोच-नोच कर खाना शुरु कर दिया। जिसके बाद नन्ही बछड़ी की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। उसके बाद जब पशुओं का शोर सुनकर ग्रामीण गौशाला में इकट्ठे हुए तो यह आवारा कुत्ते भाग कर ऊपर की ओर चले गए। कुछ देर बाद रात्री करीब 2 बजे ये झुंड एक अन्य व्यक्ति की गौशाला में घुस गया जहां से फिर पशुओं के चीखने-चिल्लाने की आवाजें आने लगी। फिर ग्रामीणों ने मिलकर इन आवारा कुत्तों को वहां से भी भगाया।

पंचायत प्रधान निशिकांत ने बताया कि पिछले काफी अरसे से ग्राम के पशुओं सहित छोटे बच्चों का घरों से निकलना दूभर हो गया है। ऐसे में घर के आंगन में खेल रहे छोटे बच्चों की भी जान का खतरा पैदा गया है। पहले भी आवारा कुत्तों का यह झुंड कई पशुओं को अपना शिकार बना चुका है। उन्होंने प्रशासन से मांग की है कि शीघ्र इस समस्या का हल किया जाए अन्यथा कभी भी कोई अप्रिय घटना हो सकती है।
गौरतलब है कि करीब 3 माह पहले भी ग्राम पंचायत अमरकोट में आवारा कुत्तों के झुंड ने घर के पास जा रहे 8 वर्षीय नन्हे बच्चे को नोच-नोच कर मौत के घाट उतार दिया था।