एसएमसी के अध्यापकों के लिए जल्द बनेेगी पॉलिसी- मुख्यमंत्री

शिक्षा

सिरमौर न्यूज। पांवटा साहिब
एसएमसी आधार पर कार्यरत अध्यापकों ने प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को अनुबंध पॉलिसी बनाने के बारे में ज्ञापन सौंपा। जिला महासचिव संतीश कंवर व जिला उपाध्यक्ष जयदीप पुंड़ीर की अगुआई में एसएमसी के अध्यापक अपनी समस्याओं को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री से मिले। हिमाचल प्रदेश में 2630 एसएमसी अध्यापक सरकारी स्कूलों में 2012 से अपनी सेवाएं दे रहे हैं। एसएमसी अध्यापक पूर्व सरकार द्वारा बनाई गई पॉलिसी द्वारा नियुक्त किए गए हैं। वर्ष 2012 में 250 अध्यापकों की नियुक्ति प्रदेश के दुर्गम वह जनजातीय क्षेत्र में स्कूलों में की गई। मार्च 2013 में तत्कालीन पूर्व सरकार के सत्ता ग्रहण करने के बाद अध्यापकों को टर्मिनेट के आदेश जारी कर दिए गए। उच्च न्यायालय हिमाचल प्रदेश द्वारा एसएमसी अध्यापकों की सेवाएं जारी रखने के आदेश दिए गए थे। उसके बाद प्रदेश सरकार द्वारा शिक्षा विभाग ने 2380 अध्यापक नियुक्त किए अतिथि अध्यापक आर एंड पी नियमानुसार आरटीई के लिए जरूरी सभी योग्यताए टीईटी को पूरा करते हैं। अध्यापक प्रदेश के दुर्गा स्कूलों में लगाए गए हैं। स्कूलों में जहां पर दो से अधिक वर्षों से पद खाली थे। ऐसे अध्यापकों की नियुक्ति के समय खुले विज्ञापन के माध्यम से रिक्त पदों को ग्राम पंचायत नगर पंचायत अर्बन लोकल एरिया न्यूज़पेपर विज्ञापित किया गया। अध्यापकों को उनके डेट ऑफ फर्स्ट अपॉइंटमेंट से पिछले सेवाकाल को जोड़कर अध्यापकों को अनुबंध पॉलिसी के तहत लाकर सभी अध्यापकों का भविष्य सुरक्षित करें। अध्यापक सिर्फ 1 साल के एक्सटेंशन के सारे कार्य कर रहे हैं तथा कोई पॉलिसी न होने के कारण अभी तक उनका भविष्य सुरक्षित नही है। प्रदेश के मुख्यमंत्री ने एसएमसी के अध्यापकों को आश्वसन दिया है कि जल्द ही उनके लिए पॉलीसी बनाई जाएगी। उनके भविष्य को सुरक्षित रखा जाएगा।