जश्न-ए-नाहन कार्यक्रम के साक्षी बनेगें प्रदेश मुख्यमंत्री

सरकार

सिरमौर न्यूज। ब्यूरों चीफ
नगर परिषद नाहन 150 वीं वर्षगांठ 12 अप्रैल को धूमधाम से मना रहा है। जिसमें मुख्यातिथि बतौर प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर शिरकत करेगें। कार्यक्रम का नाम जश्न ए नाहन दिया गया है। जिसमें मुख्यातिथि प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर शिरकत करेगें। नाहन के ऐतिहासिक चौगान में आयोजित होने जा रहे समारोह में शहर की धरोहरो की आकर्षक प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी। विधानसभा अध्यक्ष व स्थानिय विधायक राजीव बिंदल ने स्वयं कार्यक्रम का खाका तैयार किया है। उन्होनें कहा कि शहर में कुल 18 धरोहर भवनों की इस कार्यक्रम में प्रदर्शनी लगेगी। जिसमें कालीस्थान, लाल कोठी, नाहन फाउंडरी, दिल्ली गेट सहित विभिन्न सरकारी भवन शामिल है।

                         गौरतलब है कि कार्यक्रम का नाम होगा जश्न-ए-नाहन को हेरिटेज के रूप में विकसित कर पर्यटन के तौर पर विकसित करने में इससे मदद मिलेगी। नाहन शहर को राजा कर्म प्रकाश ने लगभग 400 साल पहले बसाया था। उस दौरान नाहन सिरमौर रियासत की राजधानी कहलाई जाने लगी। अंग्रेजी हुकूमत के दौरान वर्ष 1868 में सिरमौर में म्यूनिसपल बोर्ड बनाया गया जिसे वर्ष 1889 में कमेटी का दर्जा दे दिया गया। तब इसमें कुल 9 वार्ड थे। इनमें से 4 इलेक्टिड और 5 नोमिनेटिड होते थे। इस बोर्ड का कार्यकाल तीन वर्ष का होता था। जबकि रियासत के महाराजा बोर्ड के अध्यक्ष बने। वर्ष 1934 में भी इसके 9 सदस्य थे। जिनमें तीन नोमिनेटिड और 6 इलेक्टिड हुआ करते थे। उस दौरान भी अध्यक्ष नोमिनेटिड हुआ करता था। हालांकि, उपाध्यक्ष का पद इलेक्टिड प्रणाली से चुनने की प्रथा शुरू की गई।