आईआईएम सिरमौर मे शुरु हुआ महिला स्टार्टअप प्रोग्राम

उद्योग शिक्षा

सिरमौर न्यूज़ / पांवटा साहिब

आईआईएम सिरमौर देश भर से उद्यमशीलता प्रतिभा को एक साथ लाने के लिए प्रतिबद्ध है और अपने साथ अनुभवी सलाहकार और उद्योग जोड़ता है ताकि हिमाचल प्रदेश और आसपास के क्षेत्र में एक संपन्न स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र बनाया जा सके। इसी सोंच के साथ आईआईएम सिरमौर में महिलाओं का स्टार्टअप कार्यक्रम-2018 शुरु हो गया है जो आगामी 7 अप्रैल तक चलेगा। इस कार्यक्रम में देश के प्रतिष्ठित संस्थानों से 15 महिलाएं भाग ले रही है। सोमवार को शुरु हुए इस कार्यक्रम मे आईआईएम सिरमौर द्वारा आईआईएम बैंगलोर के एनएस राघवन सेंटर के साथ उद्यमशीलता सीखने के लिए साझेदारी की जा रही है। आईआईएम सिरमौर की मिडिया प्रभारी दिव्यांषी चौधरी ने जानकारी देते हुए बताया कि इस साल इस कार्यक्रम दूसरा फेज़ चल रहा है, और इसे काफी बढ़ाया गया है। महिला स्टार्टअप प्रोग्राम का मुख्य उददेष्य इच्छुक उद्यमियों को अपने उद्यम के माध्यम से व्यवस्थित रूप से सोचने के लिए उत्साहित करना है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य महिलाओं को विचारधारा से लेकर कार्यान्वयन तक के लिए महत्वपूर्ण उद्यमशीलता कौशल विकसित करना है। इसके अलावा, कार्यक्रम उद्यम शुरू करने और विकसित करने के लिए आवश्यक प्रबंधकीय कौशल सेट बनाता है। कार्यक्रम विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार और गोल्डमैन सेच्स द्वारा समर्थित है। कार्यक्रम तीन चरणों में योजनाबद्ध है। प्रथम चरण में आईआईएम बैंगलोर के प्रख्यात संकाय द्वारा विकसित छह सप्ताह के एमओओसी के पंजीयन वाले पंजीयक हैं। एमओसी में विशिष्ट सामाजिक और मनोवैज्ञानिक अनुसंधान आधारित विषय को शामिल किया गया है ताकि महिलाओं को बाधाओं से पार पाने में मदद मिल सके और उनके उद्यमों को सफलतापूर्वक आगे बढ़ा सके। महिला उद्यमिता कार्यक्रम 2018 के साथ, आईआईएम सिरमौर अभिनव उपक्रमों को बढ़ावा देने और उद्यमियों के रूप में अपनी पूरी क्षमता का एहसास करने में महिलाओं की मदद के लिए गंभीरता से तत्पर है।